Thursday, 15 May 2008

संगीत

मैंने सुना है संगीत
एक बच्‍चे से
जिसके हाथ में है इकतारा
वो गा रहा है
मां हुंदी ऐ मां ओ दुनिया वालियों
मैंने सुना है संगीत
उसके फटे हुए कपडों से
जिसमें से गा रहा है उसका बदन
मैंने सुना है संगीत
रेल के ठंडे फर्श पर रखे उसके नंगे पांव से
मैंने सुना है संगीत
ठंड से नीले पड गए उसके होंटों से
मैंने सुना है संगीत
उसकी आंखों से
जो लोगों के हाथ में तलाश रहीं हैं एक रूपया
यह संगीत मुझे उदास कर देता है
-विजय मौदगिल

2 comments:

silky said...

good hai..apke kavita mein vo battien hai jo sachaye ko byan karte hai yane sahe mein ab panchion ke awaz sunne ko nai milte... insaan matlab prasth hi gya hai.. parents ke respect khatam hote ja rahe hai... gud keep it up-

अल्पना वर्मा said...

bahut hi achchee rchna hai--badhayee