Saturday, 28 June 2008

तेरी याद

कल मिली थी वो रास्‍ते में
पूछ रही थी
भूल गए
मैंने कहा
भूला कहां हूं
कोशिश कर रहा हूं
तुम्‍हें भुलाने की
उन तमाम यादों की
जो अनायास ही
आ जाती हैं
और फिर
दर्द की एक बदली सी छा जाती है
कोशिश कर रहा हूं
तुम्‍हें भुलाने की
सोते समय नहीं करता हूं मैं तुम्‍हे याद
बस आंखों के सामने आ जाते हो तुम
तो आ जाती है तुम्‍हारी याद
आ जाता है याद वो तेरा हंसना
छोटी छोटी बातों पर गुस्‍सा करना
बारिश में भीगते हुए जाना
कहीं नहीं जाना
फिर भी जरूरी काम बताना
को‍शिश कर रहा हूं
तुम्‍हें भुलाने की
अबकी बरसात में
नहीं किया मैंने तुम्‍हें याद
वो तो बस यूं ही
पेड के पत्‍तों पर गिरी
बारिश की बूंद ने
दिला दी तुम्‍हारी याद
कुछ बच्‍चों को भीगता देख
एक आह निकली कि काश...
लेकिन याद नहीं किया मैने
कोशिश कर रहा हूं
तुम्‍हें भुलाने की

12 comments:

advocate rashmi saurana said...

bhut khub Mohanji.likhate rhe.

रंजू ranju said...

अबकी बरसात में
नहीं किया मैंने तुम्‍हें याद
वो तो बस यूं ही
पेड के पत्‍तों पर गिरी
बारिश की बूंद ने
दिला दी तुम्‍हारी याद

बहुत खूब ..याद भी सताती यूँ बदलते मौसम की तरह

mehek said...

अबकी बरसात में
नहीं किया मैंने तुम्‍हें याद
वो तो बस यूं ही
पेड के पत्‍तों पर गिरी
बारिश की बूंद ने
दिला दी तुम्‍हारी याद
bahut khubsurat ehsaas,badhai aur hamare blog par aagman ke liye shukrana bhi

Udan Tashtari said...

बेहतरीन भाई..

Mired Mirage said...

बहुत सुन्दर! बस याद ही नहीं किया और सब किया !
घुघूती बासूती

seema gupta said...

बहुत रुला जाती हैं , दिल को जला जातीं हैं ,
नीदों मे जगा जाती हैं , कितना तड़पा जातीं हैं ,

“यादें" जब भी आती है ”
Regards

मोहन वशिष्‍ठ said...

आप सबका मेरी हौसलाफजाई के तहे दिल से शुक्रिया और आज मैं पहली बार अपने ब्‍लाग पर एकसाथ इतना महान दिग्‍गजों को देखकर काफी हर्षित हुआ एक बार फिर से धन्‍यवाद

Anonymous said...

TUM MERE NAYANO SE OJHEL,
MERA MAN PEEDA SE BOJHAL.
SUNKAR SEHSA AAHAT KOI,
HOTA HAI AHSAS TUMHARA.
----ANIL SOLANKI
PALWAL

Anil Solanki said...

VERY GOOD.
I WISH YOU ALL THE BEST

KUMAR SAHAB said...

LAGYO REH MOHAN , BADHIYA HAI

honey_loveu21 said...

This is a message
from a
friend to a
friend for a
friend to be a
friend so that a
friend remains a
friend of a
friend who is a
friend 4revr.

___,;;;@@@@;;;;@@@@;;;,
__,;;;@@,;;;,;;@;;,;;;;,@@;;;,
__;;;@@;;;,“--“;“---“,;;;@@;;;;
__ ;;;@@;;;--hello---;;;@@;;;
___;;;@@“;;,--------,;;“@@;;;
___“;;;@@“;;;-----;;;“@@;;;“
____“;;;;@@;;“;“;;@@;;;;“
______“;;;;;@@@;;;;;“
________’;;;;@;;;;“
___________“;“

___,;;;@@@@;;;;@@@@;;;,
__,;;;@@,;;;,;;@;;,;;;;,@@;;;,
__;;;@@;;;,“--“;“---“,;;;@@;;;;
__ ;;;@@;;;----dear-----;;;@@;;;
___;;;@@“;;,--------,;;“@@;;;
___“;;;@@“;;;-----;;;“@@;;;“
____“;;;;@@;;“;“;;@@;;;;“
______“;;;;;@@@;;;;;“
________’;;;;@;;;;“
___________“;“
___,;;;@@@@;;;;@@@@;;;,
__,;;;@@,;;;,;;@;;,;;;;,@@;;;,
__;;;@@;;;,“--“;“---“,;;;@@;;;;
__ ;;;@@;;;--frnd!!--;;;@@;;;
___;;;@@“;;,-------,;;“@@;;;
___“;;;@@“;;;-----;;;“@@;;;“
____“;;;;@@;;“;“;;@@;;;;“
______“;;;;;@@@;;;;;“
________’;;;;@;;;;“

Anonymous said...
This comment has been removed by a blog administrator.