Wednesday, 8 April 2009

माएं नी माएं मैं इक शिकरा यार बनाया

नमस्कार साथियों आज मुझे मेरे एक दोस् ने शिव कुमार बटालवी की आवाज का जादू का लिंक चंडीगढ से भेजा सुना तो दिल बाग बाग हो गया और सोचा कि क्यों ना आपको भी इस जादू को सुनाकर दिखाकर मोहित कर लिया जाए तो पेश है आप सबकी खिदमत में शिव कुमार बटालवी की माए नी माए मैं एक शिकरा यार बनाया

सुनिए और फिर बताइये कैसा लगा आपको यह गीत



Shared @ Fachak

7 comments:

अल्पना वर्मा said...

शिव कुमार बटालवी की आवाज pahali baar suni hai..gahari awaaz aur geet bhi bahut hi sundar!
shukriya is sundar punjabi geet sunwane ke liye

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत लाजवाब गीत.

रामराम.

डॉ. मनोज मिश्र said...

वाकई बहुत सुंदर गीत.

mark rai said...

kaaphi dino baad aisa geet sunane ko mila..achha laga ....aapka shukriya aapane mera blog dekha...

डॉ .अनुराग said...

बहुत सुंदर

संदीप शर्मा said...

वाकई लाजवाब गीत...

संगीता पुरी said...

वाकई बढिया ...