Thursday, 18 December 2008

बताओ तो जानें

माफ करना दोस्‍तों। मेरी अज्ञानता मेरी पहेली को फलाप कर गई बाकी अब कोशिश किया करूंगा कि अब दोपहर को 3 बजे तक मैं अपनी पहेली पोस्‍ट कर दिया करूं और अगले दिन इसी समय तक विजेताओं की घोषणा ही किया करूं। बाकी अल्‍पना जी ने मेरा मार्गदर्शन किया है और आप भी सभी मेरा मार्गदर्शन करो।
अब बात आती है कल की पहेली के विजेताओं की तो आज की पहेली में सबसे पहले चार ऐसे जवाब आए जिन्‍होंने पहचान बताने से इन्‍कार कर दिया और यहां तक कह गए कि लगती तो कोई लडकी । इसी के साथ मौदगिल साहब जी की भी तन्‍द्रा टूटी और कई युगों बाद आज उनको ब्‍लाग जगत में भ्रमण करते हुए पाया गया। बहुत ही खुशी हुई। काफी दिनों बाद जो आए। खैर अब जब आ ही गए हैं तो कुछ लिखेंगे भी जल्‍दी ही । तो आज का सही जवाब ले‍कर आए सदाबहार विजेता अल्‍पना वर्मा जी जरा उनके लिए जोरदार तालियों से उनका स्‍वागत करें। और इसके बाद में सीमा जी आई और आब देखा ना ताव लग गईं अल्‍पना जी के सुर में गाने। रश्मि जी आए लेकिन फिर भी उन्‍होंने अपनी ईमानदारी और सच्‍चाई का परिचय देते हुए बिना किसी के नकल किए साफ साफ बता दिया कि लगती तो कोई लडकी है। लेकिन जी नहीं रश्मि जी यह लडकी नहीं बल्कि यह लडका है और लडका भी इमरान खान आमिर खान का भांजा। जो अभी हालिया फिल्‍म जाने तू में लांच किया गया है। तो इसी के साथ आज की विजेता फिर अल्पना वर्मा जी।
इसकी जानकारी लेने के लिए यहां पर क्लिक कीजिए
अब देखना होगा कि
क्‍या अल्‍पना जी अपनी जीत की हैट्रिक बना पाती हैं ।
क्‍या कल की बाजी अल्‍पना जी के अलावा और कोई मारता है
यह देखने के लिए बस आते रहिए मोहन का मन पर और देखें कल ऊंट किस करवट बैठता है तो तब तक के लिए शुभान अल्‍लाह गुड बाय नमस्‍ते टाटा सलाम

5 comments:

ताऊ रामपुरिया said...

अल्पना जी को बधाई !

राम राम !

अल्पना वर्मा said...

धन्यवाद बधाई ke liye.
मोहन जी धन्यवाद मेरी सलाह आप ने मान ली.
वैसे राज जी और तस्लीम अनुभवी पहेलीकर्ता हैं उनसे भी आप राय ले सकते हैं.
आप ने इस पोस्ट के टाइटल में bracket में बताओ तो जाने [जवाब ]लिख दिया होता तो अच्छा होता.और अगर
इस का शीर्षक भी कुछ रोचक सा भी रख देते तो यह आप को पाठक दिला देती..जैसे आमिर बने नाई!
नाई नहीं बने लेकिन नायीगिरी तो कर ही रहे हैं और इस रोचक घटना को जवाब के साथ लिखते तो पोस्ट मज़ेदार हो जाती--
चूँकि यह टोटल मनोरंजन की पहेली है इस लिए किसी को कोई आपत्ति भी नहीं होती-

'इस चित्र में आमिर खान अपने भांजे जो ग्रेड ३ में पढ़ते थे उस समय]-के बालों पर अपना हुनर दिखा रहे हैं .
उन की बहिन अपने बेटे को उन के पास छोड़ कर गयी थीं और उन्होंने उस बेचारे के ऐसे बाल काटे कि जब आमिर की
बहन बाज़ार से लौटीं तो खराब कटिंग देख कर आमिर पर खूब गुस्सा हुईं और बेचारे इमरान को नाई की दुकान ले जा कर पूरा गंजा करना पड़ा था.
कल की पहेली के लिए शुभकामनायें!.

राज भाटिय़ा said...

अल्पना जी को बधाई !

विष्णु बैरागी said...

बधाइयां ही बधाइयां ।

राज भाटिय़ा said...

भाई मे फ़िल्मे बहुत कम देखता हू, इस लिये इन नये नटो को नही पहचानाता, लेकिन शकल से मझे यह लडका लगता था, ओर इस का मेकअप लडकियो की तरह से था: सो मेने हथियार डाल दिये.