Friday, 12 September 2008

उदास याद













तुम्‍हारी आने से याद
हो जाता है दिल उदास
अब नहीं करता तुम्‍हें याद
हो जाता है दिल उदास

तुम्‍हें क्‍यों करूं मैं याद
क्‍या तुमने दिया मुझे
दुख, दर्द और तकलीफ
क्‍या काफी नहीं है जिंदगी के लिए
अब नहीं करता तुम्‍हें याद
हो जाता है दिल उदास


पहले नहीं करता था याद
तो हो जाता था दिल उदास
अब करता हूं तुम्‍हें याद
तो हो जाता हूं और ज्‍यादा उदास
अब नहीं करता तुम्‍हें याद
हो जाता है दिल उदास

चलो आज से तुम्‍हें
एक नाम दे दूं
उदास याद
इसमें याद भी है और
याद आने के बाद
मिलने वाली उदासी भी

अब नहीं करता तुम्‍हें याद
हो जाता है दिल उदास

13 comments:

Advocate Rashmi saurana said...

kya baat hai mohan ji. bhut sundar rachana ki hai aapne. or bhi sundar likhane ke liye meri shubhakamnaye.

MANVINDER BHIMBER said...

तुम्‍हारी आने से याद
हो जाता है दिल उदास
अब नहीं करता तुम्‍हें याद
हो जाता है दिल उदास

तुम्‍हें क्‍यों करूं मैं याद
क्‍या तुमने दिया मुझे
bahut sunder likha hai

mahhamad tarik said...

good

PREETI BARTHWAL said...

मोहन जी पहले तो अच्छी रचना के लिए बधाई।
आप की रचना में मन और दिल का असमंजस दिख रहा है। दिल याद करना चाहता है और मन उदास होने के डर से भूलना चाहता है। लेकिन यादें, जो हमेशा ये कहती हैं , इनके लिए अपनी रचना की कुछ लाइने कहुंगी कि

न इस तरहां से मुझे,
भूल जाने की कौशिश कर,
मैं तेरा ही ख्वाब हूं,
तू मुझे भुल नहीं पाएगा।

जितेन्द़ भगत said...

उलाहना की मासूम

राज भाटिय़ा said...

कसमकस मे फ़ंसे दिल अब तु ही कोई फ़ेसला कर.
बहुत ही सुन्दर, धन्यवाद

Bhupinder Kapur said...

बढिया लग रहा है अच्‍छी कविता लिखने का प्रयास लगे रहो

श्रद्धा जैन said...

baat ghari hai
jab tum yaad nahi aate the tab udaas hota tha ab yaad aate ho tab bhi udaas hoon
naam bhi khoob socha hai

मीत said...

bahut khoobsurat...
kyon karen use yaad, jisne dil ko diya keval drd...
jari rahe..

seema gupta said...

चलो आज से तुम्‍हें
एक नाम दे दूं
उदास याद
" very nicely composed, very touching moments described"

कितना सता जाती हैं , दीवाना बना जाती हैं ,
हर जख्म दुखा जाती हैं , फ़िर तन्हा कर जाती हैं ,

“यादें जब भी आती हैं ”
Regards

उमेश कुमार said...

ji maine ek naya prayog karne ki koshish ki hai wh yh hai ki hm jan sake ki vartan men jo chal rha hai uske bare men apn ki kya ray hai . isliye maine voting shuru ki hai . aasha karta hun ki aap jarur vote karengi. Umesh kumar

*KHUSHI* said...

चलो आज से तुम्‍हें
एक नाम दे दूं
उदास याद
इसमें याद भी है और
याद आने के बाद
मिलने वाली उदासी भी

^ dilse nikle har alfaaz pe yaad hai tumari.... usike sahare udasi mai kat raha safar hai jo baki....

parul said...

acha likha h
ek dard ko dhikya h