Wednesday, 6 May 2009

बेटियां

जब बेटी के होने पर खुशी मनती थी
आजकल क्या हुआ इस दुनिया को
कहां गई वो सुशील सुनैयना
और
वो घर की लक्ष्मी कहलाने वाली
आखिर क्या कसूर है इनका
जो इनको इस जहां में आने से
पहले ही भेज दिया जाता है
दूसरे जहां की ओर
जो आज मां है
कल वो भी किसी की बेटी थी
आज जो पत्नि है
वह भी किसी की बेटी थी
आने दो इस बेटी को
मत छीनो इससे जिंदगी इसकी
एक दिन यही बेटी
पूरी दुनिया की बेटी बनेगी
अपनी मेहनत से
अपनी लगन से
तुम्हारा और देश का
नाम रोशन करेगी
आने दो, आने दो
इस बेटी को आने दो

23 comments:

रचना said...

kavita bahut acchi lagi agar aap permission dae to kal isko naari kavita blog par post kar dun wahaan isii prakaar ki kavitaao kaa sangrh kar rahee hun
sadar
rachna

अविनाश वाचस्पति said...

अच्‍छी है आशा

बदले परिभाषा

जो मन में

बेटी की तो जो

खुशियां मनती थीं पहले

वे अब भी मनने लगेंगी

मन अगर मथ जाए

मंथन सार्थक हो जाए गर।

विनय said...

आपने तो भावुक कर दिया

---
चाँद, बादल और शामगुलाबी कोंपलें

महामंत्री - तस्लीम said...

बेटियॉं अब बेटों से आगे हैं।

SBAI TSALIIM

Udan Tashtari said...

आने दो..आने दो. बेटी को आने दो.


-सुन्दर रचना !!

Babli said...

बहुत ही सुंदर रचना लिखा है आपने! बिल्कुल सही फ़रमाया की बेटी होने से कभी किसीको गम नहीं होना चाहिए क्यूंकि आजके ज़माने में बेटा या बेटी में कोई फरक नहीं है! बेटी तो आजकल बेटों से कई गुना आगे निकल रही है! पर आज भी हमारे समाज में बेटी और बेटे में भेदाभेद करते हैं और ये अनुचित है! मोहन जी आपके इस कविता ने दिल को छू लिया है!

सुशील कुमार छौक्कर said...

मोहन जी सच कहा आपने।
आने दो, आने दो
इस बेटी को आने दो।

पर ऐसा कहाँ हो रहा है। पर वो दिन दूर नही जब ऐसा होने लगेगा। अपने हरियाणा को ही देख लो। वहाँ लडकी और लडके का रेसो क्या है? खैर वक्त बदलेगा जरुर। परसो देखा IAS में लड़कियों ने तीनों स्थान प्राप्त कर लिये। मोहन जी बेटियों से ही हमारी शान है। और आपने बेहतरीन लिखा।

हरि said...

देश की सबसे बड़ी समस्‍याओं में से एक भ्रूण हत्‍या पर चेतना जगाने के लिए आपकी भावनात्‍मक कविता काबिले तारीफ है।

रंजना [रंजू भाटिया] said...

सुंदर भावपूर्ण सच्ची कविता

raj said...

very touching.....m speechless...

डॉ. मनोज मिश्र said...

बहुत अच्छी रचना .

Harkirat Haqeer said...

आने दो, आने दो
इस बेटी को आने दो।

क्या कहूँ....?? जहां औरत की , बेटी की बात आती है निशब्द हो जाती हूँ......ताउम्र ज़्हन में उठते इन्हीं सवालों के बीच ही तो कटी है ......!!

संगीता पुरी said...

आपने महत्‍वपूर्ण मुद्दे पर बहुत अच्‍छा लिखा है ..बधाई।

Syed Akbar said...

बहुत उम्दा सोच ..

राजकुमार ग्वालानी said...

आपकी कविता बहुत अच्छी है। वास्तव में बेटियां तो घर की शान होती हैं। इनको जीवन देने से पहले ही इनके जीवन का अंत करना दुनिया में सबसे बड़ा पाप है। ऐसे पापियों को कभी माफ नहीं करना चाहिए। बेटियां किस तरह के अपने परिवार राज्य और देश का नाम रौशन करती हैं इसका एक उदाहरण हमारे शहर रायपुर में तब देखने को मिला जब एक बेटी ने बेटे का फर्ज निभाते हुए अपनी मां की चिता के मुखाग्नि देने का काम किया देखें हमारे ब्लाग में तू बेटियों की है सरताज-सबको तुझ पर है नाज

Dr. Amar Jyoti said...

'इस बेटी को आने दो'
बहुत मार्मिक और प्रभावी।

अल्पना वर्मा said...

अच्छी रचना ,
भाव bhi अच्छे हैं .
सन्देश भी नेक है.
कविता में जाहिर आप की चिंता भी सही है.

Shama said...

Mohanji,
Isee ko leke mere "kavita" blog pe ek kavita hai..
Khair,ye kahun, ki "gharkee Lakshmee" aadi visheshan sadiyon se dekhave bharke liye the...bohot kam pariwar hote the/yaa hain, jahan ek "kanya" ke janmpe sahee mayneme khushee manayee jatee hai...yahee dard maine apnee malika..."Ek baar phir Duvidhame" me jatana chaha thaa...lekin, mere jeevenke us satykaa kuchh aurhrr hashr hoke reh gaya..
aapko bade dinose apne blogpe nahee dekha..warna aap," aaj tak yahaan tak" niyamse padhte the..

Aapki har rachnaa sundar hai, isse zyada alfaaz nahee..
shama

Mumukshh Ki Rachanain said...

अर्थ प्रधान युग की यही तो त्रासदी है, हर चीज़ में नफा-नुकसान तौलता है, परिणाम कन्या-भ्रूण हत्या.
मानवता हमेशा ठगी गई अपनी सहजता के कारण नफे- नुकसान के ठेकेदारों द्वारा. अभी भी वही हो रहा है, भावुक मानवतावादी बहकाए जा रहे हैं, जल में उलझाये जा रहे हैं, पर क्या भ्रूण हत्या रूक सकी, नहीं और न रुकेगी जब तक की भ्रूण हत्या करने वालों तथाकथित पढ़े -लिखों को नफे का गणित मानवतावादी दृष्टिकोण से न समझाया जायेगा.

चन्द्र मोहन गुप्त

PREETI BARTHWAL said...

मोहन जी बहुत ही खूबसूरत रचना है।

योगेन्द्र मौदगिल said...

अच्छी कविता-बेहतर कविता
मोहन जी की सुंदर कविता

Vijay Kumar Sappatti said...

mohan ji , itni bhaavuk rachana ki , main ab kya kahun ..

bus aankhen nam hai ..

shama said...

Mohanji,
Ek amantran/binatee leke aayee hun..mere "lalitlekh" is blogpe "maatru diwas" is sheershak tehet kuchh likha hai..zaroor padhen..mujhe aapke maargdarshankaa hamesha intezaar aur qadr rehtee hai..