Friday, 2 January 2009

मेरे ब्‍लाग को बचा लो

नमस्‍कार जी
आज मेरे सामने एक दुविधा आ गई है। इस दुविधा का निवारण आप हम और हम सभी को मिलकर दूर करना ही होगा तो जल्‍दी से मेरी प्रोबल्‍म को सोल्‍व करो
मैंने एक ब्‍लाग का टेमपलेट लेकर अपने ब्‍लाग पर कापी किया बाद में कुछ एरर आए
फिर से कोशिश की । अब मेरा ब्‍लाग पूर्णतया- नहीं खुल रहा मैं क्‍या करूं कोई सुझाव दो और मेरे ब्‍लाग को बचाने में मेरी मदद करो मेरा ब्‍लाग है मोहन का मन

http://mohankaman.blogspot.com/

प्‍लीज जल्‍दी रिप्‍लाई कर मेरी मदद करो

22 comments:

विनय said...

क्या यार Hoax फ़ेंका करते हो, इतना अच्छा ब्लाग और कहते हो कि खुल नहीं रहा!

seema gupta said...

mohan ji aapka blog open ho rha hai ji

regards

राज भाटिय़ा said...

अरे अगर खुल नही रहा तो यह पोस्ट कोन डाल गया?? हां अगर कोई दुसरा बांल्ग है तो आप अपना टेमपलेट फ़िर से बदल लो. खुल जायेगा. कई बार हम टेमलेट मै बहुत छेडा खानी करते है, ओर कोई फ़ाईल मिस हो जाती है, बस, लेकिन घबराये नही

मोहन वशिष्‍ठ said...

हां जी अभी अभी डाक्‍टर फिरोज साहब जी ने ठीक करवाया है आप सभी का धन्‍यवाद

मोहिन्दर कुमार said...

भाई ब्लोग टेम्प्लेट बदलने से पहले... पुरानी टेम्प्लेट सेव कर लेनी चाहिये... पहला नियम यही कहता है :) आगे से ध्यान रखिये...शुभकामनायें

Nirmla Kapila said...

naya saal mubarak

कुन्नू सिंह said...

लगता है देर से आया हूं। कई बार टेमपलेट नही चढ पाता है ब्लाग पर।
पर कभी भी न्या टेम्पलेट डालने से पहले अपने पूराने टेमपलेट को सेव कर लें।

और भी कई कारण होते हैं error आने के।

वैसे आप अपना ब्लाग भी सेव कर सकते हैं। ईससे अगर कभी आपका ब्लाग या सारे पोस्ट डीलीट हो गै तो आप उसे फीर से पा सकते हैं।

export blog जो की Basic menu मे होता है।

हिमांशु said...

अब हम क्या कहें, जब यह ब्लाग खुल ही गया.

गिरीश बिल्लोरे "मुकुल" said...

ab ek hee chara hai
ankit /kunnoo se baat keejie
ankit ka no. mail kara raha hoon
ye naye kintu mahaarathee hai....

hem pandey said...

तकनीकी बात है .कुन्नू सिंह की राय माननी चाहिए.

Ratan Singh Shekhawat said...

घबराएँ नही ! आपका ब्लॉग पुरी तरह से बचा हुआ है ! यदि ये सुरक्षित नही होता तो हम यहाँ तक पहुँच ही नही सकते थे ! वैसे भी कुन्नु जी वापस आ गएँ है इस लिए चिंता ना करें !

विनय said...

चलो, बढ़िया है, ठीक तो हुआ, अगर कभी कोई समस्या आया करे मुझे मेल कर लिया करो। वैसे भी आजकल गूगल सेवाएँ मेंटेनन्स में हैं। ज़रा संभल के सब कुछ बीटा है।

विवेक सिंह said...

चलिए अच्छा हुआ आपकी समस्या का समाधान हो गया ! चिंता हो गई थी शीर्षक देखकर !

K.P.Chauhan said...

priya mohan ji aapne kafi achchha likhaa hai uske liye aap badhai ke patra hain .

aapko navvarsh ki bahut bahut shubhkaamnaaye .ishwar aapko sampuran varsh aapke naam ke anusar makkhan khane ko money lutaane ko ,aanand manane ko,varchashv dikhane ko .bharpur matra main dete rahen .

अजित वडनेरकर said...

मोहिन्दर जी की सलाह सौ फीसद सही है। उसी पर अमल करें। शुरुआत में ऐसी दिक्कतें हमने भी खूब झेली हैं। बढ़िया से खुल रहा है।

अविनाश वाचस्पति said...

जब भूतनाथ है पास

तो चिंता की क्‍या है बात।


भूत भभूत देगा

तो पोस्‍ट और टिप्‍पणी

दोनों का टीआरपी खूब बढ़ेगा।

Zakir Ali 'Rajneesh' said...

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाऍं।

मोहन वशिष्‍ठ said...

आपने मेरी मदद की आप सभी का बहुत शुक्रगुजार हूं। दरअसल कल तो मेरे सामने काटो तो खून नहीं वाली स्थिति हो गई थी टेम्‍पलेट मैंने पहले ही अपने डेस्‍कटोप पर सेव कर रखा था लेकिन फिर भी पता नहीं कई बार किया और नहीं हुआ घबरा गया मैं और आनन फानन में सभी को मेल कर दिया और आप सभी का प्‍यार आर्शिवाद से मेरा ब्‍लाग ठीक हो गया। आप कोई भी मांइड मत करना कि सबसे पहले मुझे जो नाम याद आया वो था कन्‍नू। क्‍योंकि इन्‍हीं के ब्‍लाग का टेम्‍पलेट लेकर मैं अपने टैम्‍पलेट सेव करना चाहता था। बाकी आप सबका सहयोग मिला अच्‍छा लगा एक बार फिर से धन्‍यवाद

अविनाश वाचस्पति said...

मोहन जी

सभी ब्‍लॉगर्स माइंडरहित होते हैं

इसलिए इनसे उम्‍मीद मत करना

कि माइंड करेंगे, होगा तब न।

इंक्‍लूडिंग मी एंड यू आलसो।

आलसी नहीं

अगर हों आलसी

तो ब्‍लॉगिंग नहीं कर सकते।

योगेन्द्र मौदगिल said...

अब पोस्ट डालिये मोहन जी और हां आपका फोन पाकर मजा आ गया काली जी से रविवार को बात करूंगा

shahidrasa said...

मोहन जी, अपने ब्लॉग पर आपने अपनी फोटो तो बड़ी अच्छी लगाई है, लेिकन शायद किसी को यह नहीं बताया कि यह जैकेट उधार की है।

अविनाश वाचस्पति said...

जैकेट उधार लेकर

उधर ही फोटो खिंचवाई

और जैकेट वापिस लौटाई।


यह लो उधार भी कटा

अब अगली धार का

वार का इंतजार है।